पढने और संकलन का शौक ही इस ब्लॉग का आधार है... महान कवि, शायर, रचनाकार और उनकी उत्कृष्ट रचनाएँ.... हमारे मित्र... हमारे गुरु... हमारे मार्गदर्शक... निश्चित रूप से हमारी बहुमूल्य धरोहर... विशुद्ध रूप से एक अव्यवसायिक संकलन जिसका एक मात्र और निःस्वार्थ उद्देश्य महान काव्य किवदंतियों के अप्रतिम रचना संसार को अधिकाधिक काव्य रसिकों तक पंहुचाना है... "काव्य मंजूषा"

Tuesday, 7 August 2012

उजड़ा दियार

लगता नहीं है जी मेरा उजड़े दियार' में.
किसकी बनी है आलमे-नापायेदार' मे.

बुलबुल को पासबां से न सैयाद से गिला,
किस्मत में कैद थी लिखी फस्लेबहार' में

कह दो कि हसरतों से कहीं और जा बसें,
इतनी जगह कहाँ है दिले दागदार में. 

इक शाखे गुल पे बैठके बुलबुल है शादमां',
कांटे बिछा दिए हैं दिले लालःजार' में. 

उम्रे दराज मांग कर लाये थे चार दिन,
दो आरजू में कट गए दो इंतिजार में. 

है कितना बदनसीब 'जफ़र' दफ्न के लिए,
दो गज जमीन भी मिल न सकी कू-ए-यार' में.

_______________शब्दार्थ________________
| दियार=जगह(देश/शहर) | आलमे नापायेदार=क्षणिक संसार | पासबां=रक्षक | सैयाद=शिकारी | फस्ले बहार=बसंत ऋतु | शाखे गुल=फूलों से लदी डाल | शादमां=प्रसन्न | दिले लालःजार=दिल का उपवन | कू-ए-यार=प्रिय की गली (तात्पर्य मादरे वतन)
___________________________________