पढने और संकलन का शौक ही इस ब्लॉग का आधार है... महान कवि, शायर, रचनाकार और उनकी उत्कृष्ट रचनाएँ.... हमारे मित्र... हमारे गुरु... हमारे मार्गदर्शक... निश्चित रूप से हमारी बहुमूल्य धरोहर... विशुद्ध रूप से एक अव्यवसायिक संकलन जिसका एक मात्र और निःस्वार्थ उद्देश्य महान काव्य किवदंतियों के अप्रतिम रचना संसार को अधिकाधिक काव्य रसिकों तक पंहुचाना है... "काव्य मंजूषा"

Saturday, 16 June 2012

निर्माण

                              नीड़ का निर्माण फिर फिर. 
                              नेह का आह्वान फिर फिर. 
वह उठी की आंधी कि नभ में, 
छ गया सहसा अन्धेरा.
धूलि धूसर बादलों ने 
भूमि को इस भांति घेरा.
                              रात सा दिन हो गया फिर,
                              रात आई और काली.
                              लग रहा था अब न होगा 
                              इस निशा का फिर सवेरा
रात के उत्पात भय से,
भीत जन-जन, भीत कण-कण.
किन्तु प्राची से उषा की
मोहिनी मुस्कान फिर फिर. 
                              नीड़ का निर्माण फिर फिर 
                              नेह का आह्वान फिर फिर 


वह चले झोंके कि कांपे
भीम कायावान भूधर, 
जड़ समेत उखड पुखड़कर
गिर पड़े टूटे विटप पर
                              हाय! तिनकों से विनिर्मित
                              घोंसलों पर क्या न बीती
                              डगमगाये जबकि कंकड़,
                              ईंट पत्थर के महल घर
बोल आशा के विहंगम,
किस जगह पर तू छिपा है,
जो गगन पर चढ़ उठाता
गर्व से निज तान फिर फिर
                              नीड़ का निर्माण फिर फिर 
                              नेह का आह्वान फिर फिर 


क्रुद्ध नभ के वज्र दंतों
में उषा है मुस्कुराती
घोर गर्जनमय गगन के 
कंठ में खग पंक्ति गाती 
                              एक चिड़िया चोंच में तिनका 
                              लिए जो जा रही है 
                              वह सहज में ही पवन 
                              उंचास को नीचा दिखाती 
नाश के दुःख से कभी 
दबता नहीं निर्माण का सुख 
प्रलय की निस्तब्धता से 
सृष्टि का नवगान फिर फिर 
                              नीड़ का निर्माण फिर फिर 
                              नेह का आह्वान फिर फिर 

_________________________