पढने और संकलन का शौक ही इस ब्लॉग का आधार है... महान कवि, शायर, रचनाकार और उनकी उत्कृष्ट रचनाएँ.... हमारे मित्र... हमारे गुरु... हमारे मार्गदर्शक... निश्चित रूप से हमारी बहुमूल्य धरोहर... विशुद्ध रूप से एक अव्यवसायिक संकलन जिसका एक मात्र और निःस्वार्थ उद्देश्य महान काव्य किवदंतियों के अप्रतिम रचना संसार को अधिकाधिक काव्य रसिकों तक पंहुचाना है... "काव्य मंजूषा"

Tuesday, 26 June 2012

सैर-ए-बुतखाना

न कटी हमसे शब् जुदाई की. 
कितनी ही ताकत आजमाई की.

रश्के दुश्मन' बहाना था सच है, 
मैंने ही तुमसे बेवफाई की. 

आये वह दस्त-गैर' में दिए हाथ,
आस' टूटी शिकस्ता-पाई' की. 

घर तो उस माहवश का दूर न था, 
लेक' ताला' ने नारसाई' की. 

मर गए, पर है बेखबर सैयाद,
अब तवक्को' नहीं रिहाई' की. 

मोमिन आओ तुम्हें भी दिखला दूं, 
सैर-ए-बुतखाना' में खुदाई' की.

_________________शब्दार्थ___________________
रश्के दुश्मन=शत्रु से इर्ष्या | दस्त-गैर=किसी और का हाथ | आस=आशा | शिकस्तापाई=हारजाना | माहवश=चाँद की तरह | लेक=लेकिन | ताला=भाग्य | नारसाई=पहुँचने से रोकना | तवक्को=भरोसा | रिहाई=छुटकारा | सैर-ए-बुतखाना=हसीनाओं के क्षेत्र की सैर | खुदाई=इश्वरता |
_________________________________________